Canonical Tags or URLs kya hota hai? क्या होते है? | अपने website पर add कैसे करें?

Ek Canonical url ek web page ka original version hain. yeh ek page par पाए gye छोटे code hai jo search engine ko बताता hai ki page ko kaise crawl kiya जाए aur important content ko kaise rank kiya जाए। यदि aapko अलग-अलग url par ek hi content मिलती hai, to is code ka उपयोग करके—जिसे rel=canonical tag कहा jata है!

search cawler को यह बेहतर ढंग से समझने में मदद करेगा कि कौन सी content महत्वपूर्ण है, duplicate content issues को हल करने, उस content की रैंकिंग में सुधार करें, आपकी साइट पर अधिक ग्राहकों को ले जा सकता है।

canonical tags क्या होते हैं?

एक canonical tags एक HTML element है जो एक search engine को सूचित करता है कि  duplicate pages में से orginal या main page कोन सा हैं!

दूसरे शब्दों में, यदि आपके पास अलग-अलग url के तहत similar content उपलब्ध है, तो आप canonical tags का उपयोग कर सकते हैं  Google को बताने के लिए की किस page को आप index करे!

उदाहरण के लिए-

यदि आपके पास निम्नलिखित दो URL हैं …

https://xyz.com/iphone12/White

and

https://xyz.com/iphone12/black

मान लिजिए की मेने iphone 12 के बारे में 2 article(white,black) लिखा! और दोनो artical मे content duplicate था! canonical tags जोड़कर, Google किसी एक url को canonical version के रूप में चुनेगा और उसे crawl करेगा. अन्य URL को duplicate content के रूप में देखा जाएगा, और इसलिए google पहले artical को ज्यादा महत्त्व देगा!

Canonical Tag को अपने website पर add कैसे करें?

Canonical Tag सरल syntax का उपयोग करते हैं, और web page के <head> section में रखे जाते हैं।

यहाँ एक Canonical Tag का एक उदाहरण दिया गया है:

screenshot 2021 08 25 11 04 45 75 40deb401b9ffe8e1df2f1cc5ba480b12
Canonical Tag example

यहाँ उस code के प्रत्येक भाग का क्या अर्थ हर बताया हैं:

  • link rel=”canonical”: इस tag में link इस page का master (यानी main Page हैं) version है।
  • hreflang=”https://example.com/abc”: canonical version इस url पर पाया जा सकता है।

और यहाँ वह code का live उदाहरण दिया है की code website पर कैसा दिखता है:

Canonical Tag क्यों important (जरूरी) हैं और क्यों प्रयोग किया जाता है ?

Canonical Tag duplicate content की समस्याओं को रोकने में महत्वपूर्ण हैं। duplicate content के साथ, Google के लिए यह चुनना कठिन हो जाता है:

  • page का कौन सा version index करना है!
  • page के किस version को rank करना है!

Canonical Tag को लागू करने से duplicate content issues को रोकने में मदद मिलती है क्योंकि search engine को main page के बारे में पता है! – canonical Url.

बहुत अधिक duplicate content आपके crawl को भी प्रभावित कर सकती है। इसका मतलब है कि Google आपकी वेबसाइट पर अन्य महत्वपूर्ण content खोजने के बजाय एक ही page के कई version को crawl करने में समय बर्बाद कर सकता है।

यहां कुछ सामान्य कारण दिए गए हैं कि आपकी site के duplicate page क्यों हो सकते हैं:

  • किसी page के amp और non-amp version (example.com/page और amp.example/page) होना।
  • विभिन्न प्रकार के device (example.com और m.example.com) के लिए page होना।
  • non-www और www वेबसाइट (https://example.com और https://www.example.com) पर same content प्रस्तुत करना।
  • non-https और https website (http://www.example.com और https://www.example.com) पर same content प्रस्तुत करना।

Leave a Reply

Your email address will not be published.