Sukanya samriddhi yojana 2022: हर महीने करें इतना जमा, बेटी को मिलेगा एकमुश्त 65 लाख!

sukanya samriddhi yojana 2022: सुकन्या समृद्धि योजना लड़कियों के उज्वल भविष्य के उद्देश्य से लड़कियों के लिए एक कल्याणकारी कार्यक्रम है। Sukanya samriddhi yojana में निवेश करने से माता-पिता 10 साल या उससे कम उम्र की बच्ची को वित्तीय सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं! इस योजना के अंतर्गत आपको जमा करे हुए राशि पे 7.6 फीसदी ब्याज दर मिलेगा! लगातार जमा के साथ आप एक बड़ा ब्याज बना सकते हैं। आप इस पैसों का उपयोग अपनी बालिका की शादी, शिक्षा आदि के लिए कर सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) योजना को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान के तहत शुरू किया गया था, जिसका मुख्य उद्देश्य एक लड़की का भविष्य सुरक्षित करना था।

सुकन्या समृद्धि योजना ब्याज दर (Interest rate)

सुकन्या समृद्धि योजना ब्याज दर कितना है?:-सुकन्या समृद्धि योजना पर आपको सालाना 7.6 फीसदी ब्याज दर मिलेगी। इस स्कीम में अंतर्गत आपको कम से कम 250 रुपये और मैक्सिमम डेढ़ लाख रुपये जमा करने का प्रावधान है! खाता डाकघरों और अधिकृत बैंकों में खोला जा सकता है।

कैसे मिलेगा मेच्योरिटी होने पर 65 लाख रुपए

अगर आप इस स्कीम में हर महीने 3000 रुपये यानी रोजाना 100 रुपये का निवेश करते हैं यानी सालाना 36000 रुपये पर आपको 14 साल बाद 7.6 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के हिसाब से 9, 11,574 रुपये मिलेंगे। 21 साल यानी मेच्योरिटी पर यह रकम करीब 15,22,221 रुपये हो जाएगी। अगर आप रोजाना 416 रुपये बचाते हैं तो अपनी बेटी के लिए 65 लाख रुपये फंड खड़ा कर सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना के फायदे

सुकन्या समृद्धि योजना के फायदे

  • 7.6% की आकर्षक ब्याज दर, जो कि धारा 80C के तहत Tax से पूरी तरह मुक्त है।
  • न्यूनतम एक वित्तीय वर्ष में रु.250 का निवेश किया जा सकता है!
  • अधिकतम निवेश एक वित्तीय वर्ष में रु.1,50,000 किया जा सकता है!
  • खाता खोलने की तिथि से 14 वर्ष पूरे होने तक खाते में पैसे जमा किया जा सकता है!
  • खाता खोलने की तारीख से 21 वर्ष पूरे होने पर खाता परिपक्व (mature) होगा!
  • 18 साल की उम्र में बच्ची जमा राशि का 50 प्रतिशत तक निकासी कर सकती है।

Sukanya Samriddhi Yojana Eligibility

  • माता-पिता या कानूनी अभिभावक बालिका की ओर से 10 वर्ष की आयु तक SSY खाता खोल सकते हैं।
  • बालिका भारतीय निवासी होनी चाहिए।
  • आप केवल दो बच्ची के लिए ही सुकन्या समृद्धि अकाउंट खुलवा सकते हैं. (अगर आपको पहली बच्ची के बाद दूसरी बार दो जुड़वा बच्ची होती है तो ऐसी ऐसी परिस्थिति में तीनों का SSY खाता खुल सकता है।)

sukanya samriddhi yojana खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज

SSY (sukanya samriddhi yojana) खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज नीचे दिए गए हैं:-

  • सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने का फॉर्म
  • खाता खोलते समय बालिका का जन्म प्रमाण पत्र जमा करना होगा।
  • खाता खोलते समय जमाकर्ता का आईडी प्रूफ (आधार कार्ड) और एड्रेस प्रूफ जमा करना होगा।
  • कोई अन्य दस्तावेज जो बैंक या डाकघर द्वारा अनुरोध किया जाता है।

सुकन्या समृद्धि योजना निकासी (withdraw) नियम

SSY (सुकन्या समृद्धि योजना) खाते से निकासी के नियम नीचे दिए गए हैं:-

  • एक बार खाते की अवधि पूरी हो जाने के बाद, खाते में उपलब्ध ब्याज सहित पूरी राशि बालिका द्वारा निकाली जा सकती है। हालाँकि, दिए गए दस्तावेज़ प्रस्तुत किए जाने चाहिए! (राशि की निकासी के लिए आवेदन पत्र,आईडी प्रूफ, पते का नाम, नागरिकता दस्तावेज)
  • उच्च शिक्षा के प्रयोजनों के लिए निकासी की अनुमति है यदि बालिका ने 18 वर्ष की आयु प्राप्त कर ली है और 10 वीं कक्षा पूरी कर ली है। हालांकि, प्रवेश के समय लगाए जाने वाले शुल्क या किसी अन्य शुल्क के लिए धन का उपयोग किया जाना चाहिए।
  • निकासी के लिए आवेदन करते समय विश्वविद्यालय या कॉलेज में प्रवेश के साथ-साथ शुल्क रसीद जैसे दस्तावेज जमा करने होंगे।
  • अधिकतम राशि जो निकाली जा सकती है, वह उस राशि का 50% है जो पिछले वर्ष में उपलब्ध है। राशि को 5 किश्तों में या एकमुश्त निकाला जा सकता है।

Sukanya Samriddhi Yojana खाते से समय से पहले (premature) निकासी के नियम

Sukanya Samriddhi Yojana खाते को समय से पहले बंद करने की अनुमति देने वाले नियम नीचे दिए गए हैं:

  • एक बार जब लड़की 18 वर्ष की हो जाती है और उसकी शादी हो जाती है, तो SSY समय से पहले निकासी की अनुमति है। हालांकि, लाभ प्राप्त करने के लिए शादी से कम से कम एक महीने पहले और शादी के 3 महीने बाद आवेदन जमा करना होगा। दस्तावेज जो लड़की की उम्र निर्धारित करते हैं, उन्हें भी प्रदान किया जाना चाहिए।
  • यदि बालिका गैर-नागरिक (non-citizen) या अनिवासी (non -residential) बन जाती है, तो खाता बंद माना जाएगा। स्थिति में इस तरह के किसी भी परिवर्तन की सूचना अभिभावक या बालिका द्वारा स्थिति में परिवर्तन के एक महीने के भीतर दी जानी चाहिए।
  • यदि बालिका की मृत्यु हो जाती है, तो खाते में उपलब्ध शेष राशि को अभिभावक द्वारा निकाला जा सकता है। हालांकि, मृत्यु प्रमाण पत्र जमा करना होगा।
  • यदि खाता 5 वर्ष या उससे अधिक के लिए खोला गया है, और बैंक या डाकघर को लगता है कि खाते को जारी रखने से बालिकाओं को कठिनाई हो रही है, तो अभिभावक या बालिका समय से पहले बंद करने का विकल्प चुन सकती है।
  • खाता बंद करने की अनुमति अन्य कारणों से भी दी जाएगी, लेकिन योगदान से अर्जित ब्याज वही होगा जो डाकघरों द्वारा प्रदान की जाने वाली ब्याज दरों के समान होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.